/
/
/
/
/
/
/
/

प्रकृति संरक्षण को समर्पित एकमात्र पत्रिका आम आदमी की भाषा में
ऊर्जा संरक्षण
भारत में विद्युत उत्पादन
(01-08-2015)

ऊर्जा के मामले में भारत विश्व के दूसरे देशों से काफी पिछड़ा है। एक वैज्ञानिक अनुमान के अनुसार साधारण जीवनयापन के लिए लगभग 1840 यूनिट प्रति व्यक्ति/वर्ष बिजली की आवश्यकता पड़ती है। जबकि, बेहतर जीवनयापन के लिए 4000 यूनिट बिजली की जरूरत होती है। 125 करोड़ जनसंख्या वाले भारत देश में लगभग 2300 अरब यूनिट बिजली प्रतिवर्ष की आवश्यकता है। वर्तमान भारत में बिजली उत्पादन की कुल स्थापित क्षमता 256020 मेगावाॅट है।

भारत में प्रति व्यक्ति विद्युत खपत लगभग 900 यूनिट प्रतिवर्ष है। विश्व में औसत खपत लगभग 2600 यूनिट प्रतिवर्ष प्रति व्यक्ति है। यूरोप में 6200, अमेरिका में 12000 एवं चीन में 3500 यूनिट प्रतिवर्ष प्रतिवर्ष है। भारत में बिजली की अत्यधिक कमी है। लगभग 30 करोड़ लोगों को अभी भी बिजली सुविधा उपलब्ध नहीं है। 2013 में भारत में कुल बिजली उत्पादन 1100 अरब यूनिट रहा।

2013 में विश्व में बिजली उत्पादन (अरब यूनिट)

चीन अमेरिका जापान रूस भारत जर्मनी कनाडा फ्रांस ब्राजील

5361 4260 1088 1069 1103 634 627 568 557

(स्रोतः सिंह डाॅ. कुलवंत, नभकीय क्षेत्र में पदार्थ विज्ञान, राष्ट्रीय वैज्ञानिक संगोष्ठी स्मारिका 2015, मुॅंबई, पृष्ठ 18)

भारत में उत्पादित कुल विद्युत का 69 प्रतिशत हिस्सा जीवाश्म ईंधन (फाॅसिल फ्यूल) से प्राप्त होता है। जीवाश्म ईंधन की उपलब्धता शनैः-शनैः कम होती जा रही है। वहीं इसके उपयोग से ग्रीन हाउस गैसों में लगातार वृद्धि होती जा रही है। इस कारण       धरती के तापमान में वृद्धि होने के साथ अनेक पर्यावरणीय संकट उत्पन्न होने लगे हैं। 

2014 में विश्व में कुल 40 अरब टन कार्बन डाईआॅक्साइड का उत्सर्जन हुआ। ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन कम हो, इसलिए वैकल्पिक ऊर्जा के स्रोतों पर ज्यादा         ध्यान दिया जा रहा है। भारत में विभिन्न स्रोतों से बिजली उत्पादन की स्थिति 2014 में इस प्रकार रही।

भारत में बिजली उत्पादन (मेगावाॅट में)

कोयला गैस डीजल नाभिकीय जल विद्युत अन्य

153570 22970 1200 5780 40800 31700

कुल 256020

नाभिकीय ऊर्जा द्वारा भारत में विद्युत उत्पादन लगभग 3.2 प्रतिशत है। भारत अपनी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए नए परमाणु विद्युत घरों की स्थापना करने जा रहा है। देश में दाबित भारी पानी रिएक्टर (च्भ्ॅत्) हैं। इसमें प्रयुक्त प्रौद्योगिक के सभी आयाम भारत में विकसित किए गए हैं। दूसरी नाभिकीय प्रौद्योगिकी देश में विकसित की जा रही है। विश्व के कुछ प्रमुख देशों ने नाभिकीय ऊर्जा से विद्युत उत्पादन के कार्यक्रम पर रोक लगाई है। नाभिकीय ऊर्जा से विद्युत उत्पादन की स्थिति 2013 में इस प्रकार रही।

नाभिकीय ऊर्जा उत्पादन (2013, अरब यूनिट)

यूएस फ्रांस रूस कोरिया चीन कनाडा जर्मनी यूक्राइन यूके स्वीडन भारत

789 404 161 132 110 97 92 78 64 64 35

लेख पर अपने विचार लिखें ( 0 )                                                                                                                                                                     
 

भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय की पंजीयन संख्या( आर. एन. आर्इ. नं.) : 7087498, डाक पंजीयन : छ.ग./ रायपुर संभाग / 26 / 2012-14
संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, संयुक्त संपादक - रविन्द्र गिन्नौरे, सह संपादक - उत्तम सिंह गहरवार, सलाहकार - डा. सुरेन्द्र पाठक, महाप्रबंधक - राजकुमार शुक्ला, विज्ञापन एवं प्रसार - देवराज सिंह चौहान, लेआउट एवं डिजाइनिंग -उत्तम सिंह गहरवार, विकाष ठाकुर
स्वामित्व, मुद्रक एवं प्रकाषक : एनवायरमेंट एनर्जी फाउडेषन, 28 कालेज रोड, चौबे कालोनी, रायपुर (छ.ग.) के स्वामित्व में प्रकाषित, महावीर आफसेट प्रिंटर्स, रायपुर से मुदि्रत, संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, 205, समता कालोनी, रायपुर रायपुर (छ.ग.)

COPYRIGHT © BY PARYAVARAN URJA TIMES
DEVELOPED BY CREATIVE IT MEDIA