/
/
/
/
/
/
/
/

प्रकृति संरक्षण को समर्पित एकमात्र पत्रिका आम आदमी की भाषा में
विष मुक्ति अभियान
अजीनोमोटो का स्वाद, स्वास्थ्य का दुश्मन
(01-07-2014)

मेकडोनाल्ड का पिज्जा, बर्गर, केएफसी के चिकन फ्राई, नेस्ले का मैगी उत्पादों के बच्चे ही नहीं जवान भी दीवाने हैं। बहुराष्ट्रीय कम्पनी के सभी फास्ट फूड में मोनो सोडियम, ग्लूटामेट (एमएसजी) का इस्तेमाल होता है। इसे अजीनोमोटो भी कहते हैं। भारत में सर्वाधिक प्रचलित चीनी व्यंजन के मसालों में भी अजीनोमोटो अपने अनूठे स्वाद के लिए मिलाया जाता है। दुनिया के अनेक देशों में इसके उत्पाद बेचना या उसके उपयोग पर प्रतिबंध है, क्योंकि अजीनोमोटो मनुष्य के गुर्दे को सर्वाधिक क्षति पहुॅंचाता है। बच्चों में लीवर की बढ़ती समस्या का प्रमुख कारण अजीनोमोटो ही है।

उमामी स्वाद के दीवाने

आलू चिप्स, स्नेक्स, विंगों, हिप्पो, कुरकुरे आदि उत्पाद बच्चों में सर्वाधिक लोकप्रिय हैं। मंचूरियन, चाऊमीन, हक्का, नूडल्स, बर्गर, पिज्जा जैसे व्यंजन का उमामी स्वाद अमीनोमोटो देता है। डिब्बाबंद खाद्यों में टमाटर सास, रेडिमेड आचार, मेक्रोनी मसाला, पनीर मसाला, लहसुन, अदरख का पेस्ट आदि फ्लेवरों में अजीनोमोटो मिलाया जाता है। यहाॅं तक की कोल्ड स्टोरेज की सब्जियों में भी इसका स्प्रे किया जाता है।

क्या है अजीनोमोटो

अजीनोमोटो चमकीला सफेद दिखने वाला एक सोडियम साल्ट है। यह खाने में स्वाद बढ़ाने वाला मसाला वास्तव में एक धीमा जहर है, जो स्वाद बढ़ाने के बजाए हमारी स्वाद ग्रंथियों को दबा देता है, जिससे हमें खराब खाने के स्वाद का पता नहीं चलता। बच्चों की स्वाद ग्रंथियों को ऐसी आदत पड़ जाती है, इसलिए ही रोता हुआ बच्चा ऐसे उत्पादों को लेकर चुप हो जाता है। देखा जाए तो अजीनोमोटो का उपयोग करके खाद्य की घटिया गुणवत्ता को दबाया जाता है। यह मानव सेहत के लिए खतरनाक है।

इंसान की जीभ मूल चार स्वाद मीठा, खट्टा, तीता/कसैला और नमकीन की अनुभूति करती है। अनुभूति में गंध की भूमिका अहम होती है। इसलिए ही हमें जुकाम में स्वाद का अनुभव नहीं होता।

हानिकारक अजीनोमेटो

अजीनोमोटो खाने के स्वाद को बढ़ाता है। उसी के साथ हमारी सेहत भी खराब करता है। इंस्टेंट फूड, जंक फूड में अजीनोमोटो, जिसे मोनोसोडियम ग्लूरामेट (एमएसजी) के नाम से जाना जाता है, हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है। बाजार की खाद्य वस्तुओं में ही नहीं, बल्कि घरों में अजीनोमोटो का धड़ल्ले से उपयोग किया जा रहा है। एमएसजी का इस्तेमाल करने वालों पर कैसा-केसा दुष्प्रभाव होता है, इस पर एक नजर डालें। 

शरीर पर प्रभाव

सिर दर्द, पसीना आना और चक्कर आने जैसी खतरनाक बीमारी आपको अजीनोमोटो से हो सकती है। अगर आप इसके आदी हो चुके हैं और ....

पूरा पढ़ने के लिए पत्रिका सब्सक्राइब करें

लेख पर अपने विचार लिखें ( 0 )                                                                                                                                                                     
 

भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय की पंजीयन संख्या( आर. एन. आर्इ. नं.) : 7087498, डाक पंजीयन : छ.ग./ रायपुर संभाग / 26 / 2012-14
संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, संयुक्त संपादक - रविन्द्र गिन्नौरे, सह संपादक - उत्तम सिंह गहरवार, सलाहकार - डा. सुरेन्द्र पाठक, महाप्रबंधक - राजकुमार शुक्ला, विज्ञापन एवं प्रसार - देवराज सिंह चौहान, लेआउट एवं डिजाइनिंग -उत्तम सिंह गहरवार, विकाष ठाकुर
स्वामित्व, मुद्रक एवं प्रकाषक : एनवायरमेंट एनर्जी फाउडेषन, 28 कालेज रोड, चौबे कालोनी, रायपुर (छ.ग.) के स्वामित्व में प्रकाषित, महावीर आफसेट प्रिंटर्स, रायपुर से मुदि्रत, संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, 205, समता कालोनी, रायपुर रायपुर (छ.ग.)

COPYRIGHT © BY PARYAVARAN URJA TIMES
DEVELOPED BY CREATIVE IT MEDIA