/
/
/
/
/
/
/
/

प्रकृति संरक्षण को समर्पित एकमात्र पत्रिका आम आदमी की भाषा में
विष मुक्ति अभियान
Search By Month & Year:-
अजीनोमोटो का स्वाद, स्वास्थ्य का दुश्मन

01-07-2014

मेकडोनाल्ड का पिज्जा, बर्गर, केएफसी के चिकन फ्राई, नेस्ले का मैगी उत्पादों के बच्चे ही नहीं जवान भी दीवाने हैं। बहुराष्ट्रीय कम्पनी के सभी फास्ट फूड में मोनो सोडियम, ग्लूटामेट (एमएसजी) का इस्तेमाल होता है। इसे अजीनोमोटो भी कहते हैं। भारत में सर्वाधिक प्रचलित चीनी व्यंजन के मसालों में भी अजीनोमोटो अपने अनूठे स्वाद के लिए मिलाया जाता है। दुनिया के अनेक देशों में इसके उत्पाद बेचना या उसके उपयोग पर प्रतिबंध है, क्योंकि अजीनोमोटो मनुष्य के गुर्दे को सर्वाधि...

पूरा पढ़ें


कीटनाशकों ने मां के दूध में भी घोला जहर

01-06-2014

इस वक्त जब हवा, पानी और जमीन भी जहरीली हो चुकी है, खाद्य पदार्थ भी जहरीले हो गए हैं। गाय के दूध में एक तरफ मिलावट की बात है, तो नकली     दूध का भारी विस्तार हो चुका है। वहीं गाय के दूध में विदेशों में विषाक्त रसायनों के पाए जाने की अनेकों बार पुष्टि हुई है। उस वक्त यह भी जांच का बिन्दु हो गया है कि क्या माताओं के स्तन से बच्चों को पिलाया जाने वाला दूध भी अब सुरक्षित है या नहीं। सर्वश्री रूथ एम. हफीज एवं शरान ए. टेलर के अनुसार 1970 एवं 1980 के दशक में मातृ स्तन से पोषण में ...

पूरा पढ़ें


भारत में प्रतिबंधित कीटनाशक रसायनों की सूची

01-05-2014

भारतवर्ष में कीटनाशक (Insecticide), रोगनाशक (Pesticide) एवं खरपतवार नाशी (Weedicide) रासायनिक दवाओं के उत्पादन, उपयोग, आयात, निर्यात तथा व्यापार पर नियंत्रण हेतु ‘इंसेक्टीसाइड एक्ट 1968’ तथा ‘इंसेक्टीसाइड रूल 1971 लागू है। इसके अनुसार भारत शासन द्वारा समय-समय पर ऐसे विषाक्त रसायन, जिनका जीवन पर एवं पर्यावरण पर घातक प्रभाव है, के उत्पादन, उपयोग, आयात, निर्यात तथा व्यापार पर प्रतिबंध या नियंत्रण या अवरोध रोपित किया जाता है। उक्त अधिनियम एवं नियमों के अंतर्गत् जनवरी 2014 में जारी की ...

पूरा पढ़ें


खरपतवार नाशक रसायन से किडनी की भयावह बीमारी

01-04-2014

श्रीलंका सरकार ने एक अध्ययन के द्वारा यह पाया कि मोनसेंटो के ‘‘राउंडअप’’ नामक ‘‘ग्लाईफासेट’’ खरपतवार नाशक (Weedicide नींदानाशक) से क्रानिक किडनी की बीमारी युक्त मरीजों की संख्या बढ़ रही है। फलस्वरूप श्रीलंका सरकार ने इस खरपतवार नाशक के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। विशेष परियोजना मंत्री श्री एस.एम. चन्द्रसेना के अनुसार ‘‘ग्लाईफासेट’’ पर प्रतिबंध राष्ट्रपति श्री महिन्द्र राज पक्षे के निर्देशों के अनुसार किया गया है, ताकि किसानों के बीच भ...

पूरा पढ़ें


1   Total Number Of Pages is:1
 

भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय की पंजीयन संख्या( आर. एन. आर्इ. नं.) : 7087498, डाक पंजीयन : छ.ग./ रायपुर संभाग / 26 / 2012-14
संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, संयुक्त संपादक - रविन्द्र गिन्नौरे, सह संपादक - उत्तम सिंह गहरवार, सलाहकार - डा. सुरेन्द्र पाठक, महाप्रबंधक - राजकुमार शुक्ला, विज्ञापन एवं प्रसार - देवराज सिंह चौहान, लेआउट एवं डिजाइनिंग -उत्तम सिंह गहरवार, विकाष ठाकुर
स्वामित्व, मुद्रक एवं प्रकाषक : एनवायरमेंट एनर्जी फाउडेषन, 28 कालेज रोड, चौबे कालोनी, रायपुर (छ.ग.) के स्वामित्व में प्रकाषित, महावीर आफसेट प्रिंटर्स, रायपुर से मुदि्रत, संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, 205, समता कालोनी, रायपुर रायपुर (छ.ग.)

COPYRIGHT © BY PARYAVARAN URJA TIMES
DEVELOPED BY CREATIVE IT MEDIA