/
/
/
/
/
/
/
/

प्रकृति संरक्षण को समर्पित एकमात्र पत्रिका आम आदमी की भाषा में
शोध
Search By Month & Year:-
कौन से हैं बुद्धिमत्ता के जीन

01-02-2015

वैज्ञानिक अब तक बुद्धिमत्ता के जीन की ठीक-ठीक तलाश नहीं कर सके हैं। शोधकर्ता 69 जींस को उच्च शैक्षिक           उपलब्धियों का कारक मान रहे हैं। प्रकृति और परिवेश भी बुद्धि से जुड़े हुए हैं। वैज्ञानिक इस ओर अभी भी जीन को तलाश नहीं सके हैं। आने वाले दिनों में बुद्धिमत्ता के जीन की पहचान सम्भव हो सकेगी।

वैज्ञानिकों ने इस बार करीब 1 लाख लोगों का अध्ययन करके तीन जेनेटिक भिन्नताओं को आईक्यू से जुड़ा पाया है, मगर व्यक्ति की बुद्धि पर इनका असर नगण्य पाया गया है। ...

पूरा पढ़ें


वीडियो से सीखते बंदर

01-02-2015

मार्मोसेट (एक प्रकार का बंदर) पर किए गए अध्ययन से पता चला है कि वह केवल अपने परिवार के लोगों से ही नहीं सीखता, बल्कि वीडियो या स्क्रीन पर दिखाई देने वाले पात्रों से भी सीखता है। जंगली जीवों के व्यवहार को जानने के लिए इस तरह का वीडियो अध्ययन पहली बार किया गया है। आस्ट्रिया के विएना विश्वविद्यालय की टीना गनहोल्ड और उनके साथियों ने मार्मोसेट पर एक अध्ययन किया। इसमें उन्होंने मार्मोसेट की एक फिल्म बनाई, जब वह एक प्लास्टिक उपकरण में से जुगाड़ करके कोई खाने की चीज ...

पूरा पढ़ें


नवजात बच्चे के दिल में छेद क्यों?

01-12-2014

मानव हृदय में चार कोष्ठक होते हैं। दायां, बायां, अलिंद और निलय। दाएं अलिंद में शिराओं से अशुद्ध रक्त हृदय को लौटता है जो कि त्रिपटी कपाट द्वारा दाएं निलय में जाता है। यहाॅं से पल्मोनरी धमनी द्वारा फेफड़ों में पहुॅंचकर शुद्ध होता है। फेफड़ों में रक्त से कार्बन डाईआॅक्साइड निकलती है और आक्सीजन मिल जाती है। यह शुद्ध रक्त पल्मोनरी शिराओं द्वारा बाएं अलिंद में वहाॅं से माइट्रल कपाट द्वारा बाएं निलय में पहुॅंचता है। बाएं निलय से शुद्ध रक्त एओरटिक कपाट से महाधम...

पूरा पढ़ें


क्लोरीन से साफ पानी कैंसरजनक

01-12-2014

प्रदूषित पानी से 80 फीसदी रोग होते हैं। वहीं क्लोरीन युक्त पानी से अमीर लोग कैंसर का शिकार हो रहे हैं। साफ पानी, स्वच्छ पानी, पीने लायक हो जाता है, यह शुद्ध पेयजल है ऐसा सही नहीं है। 

सार्वजनिक  पेयजल

देश के कई नगरनिगम, नगरपालिका पानी को साफ करने के लिए क्लोरीन का उपयोग कर रहे हैं। मगर क्लोरीन की कितनी मात्रा सुरक्षित है, इस बात से अनजान हैं। बाजार में वाटर प्यूरीफायर पानी साफ करने के लिए कौन सी प्रक्रिया अपना रहे हैं। फिर बोतलबंद पानी पीने से भी कैंसर ...

पूरा पढ़ें


अंतरिक्ष में पानी उबालना आसान नहीं होता

01-11-2014

जो चन्द्रयान और मंगलयान ग्रहों- उपग्रहों पर पानी ढूॅंढ़ते फिर रहे हैं, उन पर रहने वाले अंतरिक्ष यात्रियों को पीने और अन्य कामों के लिए पानी मुहैया करना आसान नहीं है। खासतौर से जब अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन दशकों तक अंतरिक्ष में रहने लगा और वहां हर समय मेहमान बने रहने लगे तो उनके लिए पानी एक बड़ी समस्या बन गई। एक अनुमान के मुताबिक हरेक अंतरिक्ष बाशिंदे के लिए साल में 5000 लीटर पानी सप्लाई करना पड़ता है। और वह तब जब ये बाशिंदे कम से कम पानी में काम चलाते हैं-नह...

पूरा पढ़ें


1 2 3    NEXT  Total Number Of Pages is:3
 

भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय की पंजीयन संख्या( आर. एन. आर्इ. नं.) : 7087498, डाक पंजीयन : छ.ग./ रायपुर संभाग / 26 / 2012-14
संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, संयुक्त संपादक - रविन्द्र गिन्नौरे, सह संपादक - उत्तम सिंह गहरवार, सलाहकार - डा. सुरेन्द्र पाठक, महाप्रबंधक - राजकुमार शुक्ला, विज्ञापन एवं प्रसार - देवराज सिंह चौहान, लेआउट एवं डिजाइनिंग -उत्तम सिंह गहरवार, विकाष ठाकुर
स्वामित्व, मुद्रक एवं प्रकाषक : एनवायरमेंट एनर्जी फाउडेषन, 28 कालेज रोड, चौबे कालोनी, रायपुर (छ.ग.) के स्वामित्व में प्रकाषित, महावीर आफसेट प्रिंटर्स, रायपुर से मुदि्रत, संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, 205, समता कालोनी, रायपुर रायपुर (छ.ग.)

COPYRIGHT © BY PARYAVARAN URJA TIMES
DEVELOPED BY CREATIVE IT MEDIA