/
/
/
/
/
/
/
/

प्रकृति संरक्षण को समर्पित एकमात्र पत्रिका आम आदमी की भाषा में
सामयिक
Search By Month & Year:-
चीन के बांध बने राजनीतिक हथियार

01-03-2015

चीन ने भारत के विरोध के बावजूद ब्रह्मपुत्र नदी पर बांध बना लिया, जिससे देश कई खतरों से घिर गया है। ऐसे बड़े बांध, नहरें चीन के लिए राजनीतिक हथियार भी बन गए हैं, जिन्हें अवरूद्ध कर चीन भारत के कई हिस्सों को पानी के अभाव से तबाह कर सकता है, वहीं अचानक बांध से पानी छोड़कर जल प्लावन की स्थिति पैदा कर सकता है।

भारत के पुरजोर विरोध के बावजूद चीन ने आखिरकार तिब्बत में ब्रह्मपुत्र नदी पर देश के सबसे बड़े हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य पूरा कर लिया। इससे चीन ...

पूरा पढ़ें


जीवन में प्रकाश और मिट्टी

01-01-2015

इंसान माटी का पुतला है, जिसके जीवन को बनाए रखने के लिए मिट्टी से भोजन मिलता है। भोजन से ऊर्जा लेकर इंसान गतिमान होता हुआ आज दोराहे पर जा खड़ा हुआ है, जहाॅं उसे तरक्की के लिए प्रकाश की   अधिक जरूरत हो रही है। टिकाऊ प्रकाश तकनीकियों को लेकर इंसान असीम संसार को पाना चाहता है।  भविष्य की चुनौतियाॅं उसे सजग कर रही हैं।

जीवन में प्रकाश और प्रकाश  आधारित प्रौद्योगिकियों से समूची दुनियाॅ में बदलाव के कई दौर आए हैं। आज वैश्विक स्तर पर समाज के भविष्य को उत्तरोत...

पूरा पढ़ें


बरगद वैज्ञानिक कसौटी में खरा

01-12-2014

पेड़-पौधों की पूजा हमारी संस्कृति है। सनातन धर्म प्रकृति से जुड़ा है और इन्हीं के साथ हमारी परम्पराएं हैं। लोक गाथाओं के सारगर्भित अर्थ को देखा जाए तो उसमें ज्ञान-विज्ञान की झलक मिलती है। वन-प्रकृति को सहेजा जाए, जो मानव जीवन की पोषक है। 

वृक्ष पूजा परम्परा

जीवन की जीवंतता और विविधता प्रकृति के बदलते स्वरूप में मिलती है। हमारे पर्व और पूजा अनुष्ठान इनसे आबद्ध हैं। वह इसलिए कि मानव इसे संजोता रहे और अपने जीवन को सतत् निरोगी रख सके। वृक्ष पूजा से जुड़े ...

पूरा पढ़ें


जलवायु परिवर्तन और बच्चे

01-11-2014

जलवायु परिवर्तन का अधिक नाटकीय और गंभीर प्रभाव बच्चों पर पड़ रहा है। यूनीसेफ के एक लेख के अनुसार विकासशील देशों के बच्चे जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक खतरा झेलने वाले हैं। सुभेद्यता के हिसाब से भारत दुनिया भर में दूसरे नम्बर पर आने वाला देश है और इसकी 36 प्रतिशत आबादी 18 साल से कम की है। लेख में यह भी कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन बच्चों पर असर डालेगा और उनके स्वास्थ्य और आर्थिक सशक्तीकरण की संभावना पर विशेष प्रभाव डालेगा। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन के अंतर्प...

पूरा पढ़ें


जलवायु परिवर्तन राष्ट्रीय योजना प्रक्रिया में शामिल हो

01-11-2014

जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा प्रभाव जिस तबके पर पड़ने वाला है, वह देश की ग्रामीण आबादी ही है। जलवायु परिवर्तन उपायों को मुख्य     धारा में शामिल करके हम इस वर्ग को प्रभावित होने से काफी हद तक बचा सकते हैं। हाल ही में ‘क्लाईमेट रेजीलिएंट डेवलपमेंट मेनस्ट्रीमिंग क्लाइमेट चेंज कंसर्न इनटू प्लानिंग प्रोसेस’ विषय पर विशेषज्ञों की एक गोलमेज बैठक हुई।

इस बैठक के दौरान ‘डेवलपमेंट अल्टर्नेटिव्स’ के आनंद कुमार ने अपने प्रजेंटेशन में जलवायु परिवर्...

पूरा पढ़ें


1 2 3 4    NEXT  Total Number Of Pages is:4
 

भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय की पंजीयन संख्या( आर. एन. आर्इ. नं.) : 7087498, डाक पंजीयन : छ.ग./ रायपुर संभाग / 26 / 2012-14
संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, संयुक्त संपादक - रविन्द्र गिन्नौरे, सह संपादक - उत्तम सिंह गहरवार, सलाहकार - डा. सुरेन्द्र पाठक, महाप्रबंधक - राजकुमार शुक्ला, विज्ञापन एवं प्रसार - देवराज सिंह चौहान, लेआउट एवं डिजाइनिंग -उत्तम सिंह गहरवार, विकाष ठाकुर
स्वामित्व, मुद्रक एवं प्रकाषक : एनवायरमेंट एनर्जी फाउडेषन, 28 कालेज रोड, चौबे कालोनी, रायपुर (छ.ग.) के स्वामित्व में प्रकाषित, महावीर आफसेट प्रिंटर्स, रायपुर से मुदि्रत, संपादक - ललित कुमार सिंघानिया, 205, समता कालोनी, रायपुर रायपुर (छ.ग.)

COPYRIGHT © BY PARYAVARAN URJA TIMES
DEVELOPED BY CREATIVE IT MEDIA